ज्योतिष और हेल्थ

जाने मलेरिया और डेंगू के बारे में जानकारी और बचाव...

जाने मलेरिया और डेंगू के बारे में जानकारी और बचाव...

'द न्यूज़ इंडिया समाचार सेवा' से साभार 

कोरबा : बरसात के मौसम में जलजनित बीमारियों के साथ ही मच्छरों के प्रकोप बढ़ने से मलेरिया और डेंगू होने के भी संभावना बनी रहती है। बरसात में होने वाले संक्रामक बीमारियों में उल्टी दस्त, बुखार, पीलिया, मलेरिया, आंत्रशोध आदि के फैलने का खतरा काफी बढ़ जाता है। इन संक्रामक बीमारियों से बचाव के लिए स्वास्थ्य विभाग ने सलाहकारी निर्देश जारी किए हैं। 
 
मलेरिया और डेंगू से बचाव के लिए कूलर, गमले, फ्रिज एवं टायरों में पानी जमा नहीं होने दें। मच्छरों को पनपने नहीं देना चाहिए। डेंगू के मच्छर साफ पानी में पनपते हैं इसलिए लोगों को घर के आसपास पानी के जमाव को नहीं होने देना चाहिए। डेंगू से बचाव के लिए मच्छर रोधी उपायों का उपयोग करना चाहिए। इन संक्रामक बीमारियों को प्रभावशाली तरीके से नियंत्रण के लिए जल स्त्रोतों का जल-शुद्विकरण ब्लीचिंग पाउडर से करने के लिए कहा गया है। हेण्ड पम्पों, कुओं के जल शुद्विकरण के लिए क्लोरीनीकरण करने के सलाह दिए गए हैं। यह भी जरूरी है कि संक्रामक बीमारियों को रोकने के लिए सड़ी गली सब्जी, फल, आदि का सेवन न किया जाए। दस्त रोग के समुचित प्रबंधन हेतु ‘‘लो ऑस्मोलर ओ.आर.एस. घोल लेना सुनिश्चित किया जाए।  
 
मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. बी. बी. बोडे ने बताया कि मलेरिया होने पर हाथ-पैर में दर्द, सिर दर्द, ठंड के साथ बुखार आता है। यह मादा एनाफिलीज संक्रमित मच्छर के काटने से होता है। मलेरिया से बचने के लिए घर के आसपास पानी जमा होने ना दें, रूके हुए पानी में मिट्टी का तेल, मोबिल ऑयल डालें। शाम के समय नीम की पत्ती का धुंआ करें। सोते समय दवा लेपित मच्छरदानी का प्रयोग करें। सभी शासकीय स्वास्थ्य केंद्रों में निःशुल्क जांच की सुविधा उपलब्ध है। डेंगू एक वायरस से होने वाली बीमारी का नाम है, जो एडीज नामक मच्छर की प्रजाति के काटने से होता है। इस मच्छर के काटने के करीब 3 से 5 दिनों में लक्षण दिखाई देने लगते है।
 
 जिसके कारण तेज बुखार और सर दर्द,मसल दर्द,जोड़ो में दर्द जैसे लक्षण दिखाई देते है। इसे हड्डी तोड़ “बुखार” या ब्रेक बोन बुखार भी कहा जाता है। डेंगू का उपचार संभव है। डेंगू के खतरे को कम करने के लिए घर मे और आस-पास पानी जमा ना होने दे,कूलर और बाल्टियों में पानी भरकर न रखे। कचरे के डिब्बे को हमेशा ढ़क कर रखे,स्वयं को मच्छरों से बचाना के लिए पूरे शरीर को ढ़कने वाले कपड़े पहनना बहुत जरूरी है। डेंगू जांच की सुविधा सभी शासकीय अस्पतालों में उपलब्ध है।

More Photo

    Record Not Found!


More Video

    Record Not Found!


Related Post

Leave a Comments

Name

Contact No.

Email