गुजरात में 28000 हीरा श्रमिकों की नौकरी गई, 50,000 हो सकती है संख्या

गुजरात में 28000 हीरा श्रमिकों की नौकरी गई, 50,000 हो सकती है संख्या

गांधीनगर। वैश्विक मंदी ने भारतीय अर्थव्यवस्था को तगड़ी चोट पहुंचाई है। इसी की आड़ में लाखों लोगों से रोजगार छिन चुका है। जबकि, सैकड़ों कंपनियां छंटनी करने में लगी हुई हैं। गुजरात में सैकड़ों फाउंड्री इकाई ठप हो चुकी हैं। जबकि, हीरा उद्योग और ऑटोमोबाइल कंपनियां भी बंद हो रही हैं। डायमंड सिटी सूरत में तो हीरा श्रमिकों पर तो मानो कहर ही टूट पड़ा है। यहां 28,000 हीरा श्रमिकों से रोजगार छिन गया है। डायमंड वर्कर यूनियन के अनुसार, बीते 4 महीने में ही ये हजारों लोग बेरोजगार हो गए। यदि सरकार कोई कदम नहीं उठाती है तो जल्द ही यह संख्या 50 हजार से भी ज्यादा हो जाएगी। 

वर्कर यूनियन के अध्यक्ष रणमल जिलरिया ने का कहना है कि हीरा उद्योग और फाउंड्री उद्योग से जुड़े लोग अधिक संकट में हैं। हम सरकार में लगातार मदद करने की अपील कर रहे हैं, लेकिन अभी तक कोई सुनवाई नहीं हो रही है। सरकार, जल्द ही कुछ नहीं करती है बेरोजगार हीरा श्रमिकों की संख्या 50 हजार को पार कर जाएगी। जबकि, फाउंड्री इकाईयां ठप हुईं तो लाखों की संख्या में लोग रोजगार से हाथ धो बैठेंगे। 

हीरे की बड़ी कंपनियों पर ताले लगने शुरू हो गए हैं। यहां एके रोड पर स्थित गोधानी इम्पेक्स को उसके मालिकों ने बंद कर दिया है। गोधानी इम्पेक्स ने शनिवार को 250 हीरा श्रमिकों को नौकरी से निकाला था। फिर दो दिन बाद सोमवार को 200 और श्रमिकों को नौकरी से निकाला गया। यानी 450 से ज्यादा लोग बेरोजगार हो गए। वे लोग अब भटक रहे हैं। जबकि, सरकार इस मामले में खामोश है। 

साभार : वन इण्डिया से 

More Photo

    Record Not Found!


More Video

    Record Not Found!


Related Post

Leave a Comments

Name

Contact No.

Email