सूरजपुर

3 वर्षों बाद जागी वन विभाग की टीम, की कार्रवाई, लकड़ी तस्करों को पकड़ा

3 वर्षों बाद जागी वन विभाग की टीम, की कार्रवाई,  लकड़ी तस्करों को पकड़ा

सुभाष गुप्ता की खबर 

 

 लगभग 3 वर्षों बाद की गई कार्यवाही

इसके बावजूद भी लकड़ी तस्करों के हौसले बुलंद

वन विभाग की मिलीभगत से हो रही भारी मात्रा में लकड़ी तस्करी

सिर्फ दिखावे के लिए कर दिया छोटी सी कार्यवाही

वन विभाग को तस्कर देते हैं मोटी रकम

बिहारपुर -गुरुघासीदास राष्ट्रीय उद्यान के रेंज महुली  के चांदनी बिहारपुर क्षेत्र के सर्चिग टीम ने रात्री गष्त के दौरान अवैध रुप से लकडी की तस्करी करते हुए 4 नग साल  की सील्ली  मोटरसायकल सहित बरामद किया है सुरजपुर जिले के दुरस्थ क्षेत्र बिहारपुर चादनी मे स्थित गुरुघासीदास राष्टृीय उद्यान से लगी मध्यप्रदेष की सीमायें हैं।आये दिन प्रतिदिन रात मे बहुमुल्य लकडी की तस्करी  होती है। महुली मे पदस्थ गष्ती टीम बीती रात  मध्यप्रदेष की सीमा से लगे जंगल से लगी स्थानो पर सर्चिग के दौरान गष्ती टीम ने दो मोटरसायकल मे लकडी की तस्करी करते हुये धरपकड की कार्यवाही के इसी दौरान एक वाहन गष्ती दल का अंधेरे का फायदा उठाते हुये फरार हो गया तो वही एक बाईक मे 4 नग लकडी की सील्ली के एक आरोपी को पकडने सफल रही। वनपरिक्षेत्राधिकारी बुद्ध सेन नापित ने बताया कि पकडे गये आरोपी दिलबरन जायसवाल अपने हिरो वाहन क्रमांक सीजी 15 सीआर 8165 से लकडी की तस्करी करने पर आरोपी सहित 4 नग लकडी की सील्ली बरामद कर भारतीय वन अधिनियम 1972,1927 की धारा लगाते हुये कार्यवाही करने की बात कही है। वही चांदनी बिहार पुर क्षेत्र में लगातार वनों की तस्करी जोरों पर चल रहा है वही टू व्हीलर फोर व्हीलर में  भारी मात्रा में लकड़ियों की तस्करी होती है

यह कार्यवाही मात्र दिखावा

चांदनी बिहारपुर इलाके के जंगलों के अलावा गुरु घासीदास राष्ट्रीय उद्यान से पेड़ों की अवैध कटाई की जा रही है। खोहिर गांव में रोड किनारे लगे साल के पेड़ों को तस्करों ने काट दिया है। लकड़ियों की तस्करी सिंगरौली मध्यप्रदेश तक हो रहा है। चांदनी बिहारपुर क्षेत्र के महुली में गुरु घासीदास राष्ट्रीय उद्यान का कार्यालय है। चर्चा है कि वन कर्मियों की जानकारी में पेड़ों की कटाई होती है। यहां लकड़ी तस्करों का एक बड़ा गैंग काम करता है। एक साथ  बहुत पेड़ों की कटाई के बाद भी गुरु घासीदास राष्ट्रीय उद्यान पार्क के अधिकारी मौके पर नहीं पहुंचे हैं। इससे उनकी भूमिका पर भी लोग संदेह जता रहे हैं।

इस कारण ग्रामीण शंका जाहिर कर रहे है कि वन कर्मियों से मिलीभगत कर पेड़ों को काटा जा रहा है। गुरु घासीदास राष्ट्रीय उद्यान पार्क के डिप्टी रेंजर ने बताया कि वन कर्मियों की कमी है। इसके कारण तस्कर पेड़ों को काट रहे हैं।  वन विभाग के जानकारी में पूरी लकड़ी तस्करी हो रही है। और लकड़ी तस्करों के हौसले बुलंद हैं क्योंकि तस्कर लकड़ी तस्करी के बदले वन कर्मियों को मोटी रकम देते हैं। उक्त कार्यवाही तो मात्र दिखावा है प्रतिदिन सैकड़ों पेड़ों की तस्करी खुलेआम की जा रही है। आरोपियों के हौसले इतने बुलंद हैं कि वन वन विभाग के सह पर 1 संपत्ति को भारी नुकसान  पहुंचा रहे हैं।

More Photo

    Record Not Found!


More Video

    Record Not Found!


Related Post

Leave a Comments

Name

Contact No.

Email